हरिहर झा

जुलाई 5, 2019

कैसे हो मेरे बिछुड़े मित्र

Filed under: गीत,साहित्य सुधा — by Harihar Jha हरिहर झा @ 7:44 अपराह्न
Tags: ,
चलो दिख गये, इसी मॉल पर, 
शॉपिंग करते परख रहे इत्र
कैसे हो मेरे बिछुड़े मित्र!

जाने बस, बिजली कौंधी,   
ज्योत जली, अंतस के चिराग में 
उल्लास की, सिसकी की यादें क्यों, 
अब तक छाई दिमाग में
बतियाते थे देख राह में  नागफनी, 
कभी गुलाब पवित्र 
कैसे हो मेरे बिछुड़े मित्र!

छीन झपट, फिर  मन के तार,  मिल जाते, 
मित्र-धर्म  के नाते
कबड्डी खो-खो खेल प्यारा, 
गिरते पड़ते, फिर उठ जाते   
जंगल में बिल्ली-दौड़ से, 
भरमाते,  
दब गये वे चरित्र
कैसे हो मेरे बिछुड़े मित्र!

उठा कर, फैंक देने का अभिनय,  
करते  छुकछुक गाड़ी में? 
मन माफिक शर्त मनवाते, छुपाते, 
सब कपड़े झाड़ी में  
पीठ पर कपडों के ऊपर, बनाते,  
खच्चर गदहे के चित्र
कैसे हो मेरे बिछुड़े मित्र!

प्लान, चुराने 
गुड़-घी शक्कर, हमने खोल दिये थे फाटक
दूर की कौड़ी,  बहस जीतने, 
इंग्लिश  बोलने का नाटक
आती जब,  झगड़े-फसाद में एक हँसी, 
उठते  भाव विचित्र
कैसे हो मेरे बिछुड़े मित्र 
 http://www.sahityasudha.com/articles_Dec_2nd_2017/kavita/harihar_jha/kaise.html