हरिहर झा

दिसम्बर 20, 2018

मनमानी राह ले बैठा

Filed under: अनहद-कृति,गीत,व्यंग्य — by Harihar Jha हरिहर झा @ 7:03 पूर्वाह्न
Tags: , ,

किसी और की क्या है गलती
मनमानी राह ले बैठा।

गलत सलत परिधान ले लिये,
पहन लिये विदूषक जैसे
काऊबॉय सा कभी लगे तो,
कभी कोई फटीचर जैसे
दाग लग गये सब वस्त्रों में,
कम ना थे अपने भी लफड़े
धोबन उजले धोती थी पर
फाड़ गई कुचेले कपड़े

जगह जगह पैबन्द लगे हैं,
खोल रहे है कच्चा चिट्ठा
किसी और की क्या है गलती
मनमानी राह ले बैठा।

छलक रही थी उर्जा भीतर
खुशियों से भरपूर खजाना
गरूर मन का उबल पड़ा तो
अपनो को ही किया बेगाना

सोंचा था दिल की धड़कन पर
अपना ही राग सुनायेगे
जाम भरेगी साकी हम तो
चियर्स कहते बतियायेगें

नैनो में मधुशाला थी पर
चिढ़ कर दिखा गई अंगूठा
किसी और की क्या है गलती
मनमानी राह ले बैठा।
http://www.sahityasudha.com/articles_Oct_2nd_2017/kavita/harihar_jha/manmani.html