हरिहर झा

2017_१_अ_कृति_सा_कुंज_सेतु_लेखनी_सा_संध्या

(अनहद कृति, सा.कु., सेतु,Lekhni,आजादी क्यों?,सा.संध्या)

साहित्य-कुंज ( अक्तूबर प्रथम अंक, 2017 ) साहित्य घटिया लिख दियावो बहेलिया ,  चम्मच से तोते सीख गये खाना , तुरत छिड़ गया युद्ध

( Open Books Online OBO )

सुर्खियों में कहाँ दिखती?    पत्थरों को क्या कहें

सेतु अक्टूबर २०१७ 

न हो उदास, न हो निराश   तू इतना तो बतला

अनहद कृति

कैसे लिखूँ

(   अक्टूम्बर २०१७ )       दीपक कई जले ,   फरिश्ता आने वाला है 

लघुपत्रिका – शोध-लेख पर प्रतिक्रिया

कविता क्या है?  (परिशिष्ट)

दो इन्हें सम्मान

दंश का व्यवहार

दर्द भरी सिसकी है

भीग लिया(अनहद-कृति)

हुये रिटायर जॉब से

क्या लिखूँ मैं कविता

HforHindi

AZadi Kyon August 2016

aazadikyo_garbh_aug2016-1aazadkyo_garbh_aug20016-2

लेखनी :

* हरिहर झा

मैं अभागन  ( लेखनी-अंक 44-अक्तूबर-2010)

मेरी मरजी ( लेखनी-अंक 44-अक्तूबर-2010)

कौन सही, कौन गलत ( लेखनी-नवंबर-2013)

प्रकृति मौसी ( लेखनी-नवंबर-2013)

मुग्ध ( लेखनी-फरवरी-2014)

Advertisements

%d bloggers like this: