हरिहर झा

जनवरी 8, 2014

मौसम

Filed under: अतुकांत — by Harihar Jha हरिहर झा @ 3:24 पूर्वाह्न
Tags:

सर्दी आई तो
सिकुड़ गये प्राण,
छिन गई हृदय की उष्मा
जिसमे पंखुड़ियां खिल खिल जाती थी|
अबोध चिड़िया मीठे गाती थी
बस, डरा धमका कर
कुरेद गई सिहरन से कम्पित घाव को,
खामोश रह कर देखता हूँ इस बदलाव को|

और अब महसूस करता हूँ बेचैनी से
गर्मी में करवट बदल बदल कर
पसीने में लथपथ जीजिविषा,
तबाही मची है
गतिमान हो कर बह निकली चासनी अंगप्रत्यंग से,
चिन्गारियों का यह सिलसिला
जाने कब तक जारी रहेगा,
कौन सुलझा पायेगा मौसम की
इन गुत्थियों को|

सामने संगमरमर की तराशी हुई मूर्ति
अपने ताज पर
सहनशीलता का भार लिये ऐंठी है,
चटख जाने के डर से
अपने वातानुकूलित कक्ष में बैठी है|

बाग में पंखुड़ी
जो सहती है सब कुछ चुपचाप,
वीतरागी हो कर झुलस जाती है
उसके धर्मग्रन्थ मे यही लिखा है,
कि पंखुड़ी झुलसती है
फिज़ा में फिर से शामिल होने के लिये|

लेकिन जब कर दिया झुलसने से इन्कार
एकता के हार ने,
मूर्ति को गले में चुभना शुरू किया
और शोषण के लिये दी गहरी सज़ा
बदबू देकर लिया सताने का मज़ा
तो हर हालत में
दांत किटकिटाये
डरावनी सर्द रातों मे
या नफ़रत के गर्म अंगारों में।

-हरिहर झा
http://anhadkriti.com/creator.php?cnum=202&knum=87
Love is an Illusion
http://www.boloji.com/index.cfm?md=Content&sd=Poem&PoemID=18221