हरिहर झा

जनवरी 4, 2012

त्योहार

Filed under: Uncategorized — by Harihar Jha हरिहर झा @ 2:50 पूर्वाह्न
Tags:

सद्भावना का इत्र सुगंधित इस फूल के हार में
रिमझिम बरस रही फुहार का , आनन्द त्योहार में

हार गई है रुदन-रागिनी मुस्काने झेल रही
सब के चेहरों पर हँसी की , फुलझड़ियां खेल रही

किरण निकली इन्द्रधनुष सी बादल से छन छन के
उजियारा लो फैल गया है गलियारे में मन के

चांदनी धरती पर दूध के सागर में नहा गई
साकीबाला छाई सजधज मधुशाला बहा गई

-हरिहर झा

Advertisements

1 टिप्पणी »

  1. Pa lbhar mein toot jaye wo kasam nahi,
    Dost ko bhul jaye wo hum nahi,
    Tum hume bhool jao is baat mein dum nahi,
    Kyon ki tum hame bhul jao itne bure hum nahi.

    टिप्पणी द्वारा Rahul Sharma — मार्च 28, 2012 @ 1:10 अपराह्न |प्रतिक्रिया


RSS feed for comments on this post. TrackBack URI

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: