हरिहर झा

जुलाई 12, 2007

घटिके! *

Filed under: अतुकांत,हास्य — by Harihar Jha हरिहर झा @ 12:31 पूर्वाह्न

घटिके! तू रो मत
चिल्ला मत
तुझे ही  क्या
इस नारी ने
किस किस को
हंसा हंसा कर
नही  रुलाया
नहीं नचाया।
इस नारी  ने
राम को वनवास देकर
रावण से भिड़वाया
अंधे का बेटा अंधा कह कर
महाभारत छिड़वाया।

फिर तुझे नचाने मे  तो
उसकी पतली   कमरियां
लचक जाती है।
कोमल कलाईयां
मचक जाती हैं
इसका तू गर्व कर!

अब
चुप कर बावरी घटिके!
तू रो मत
चिल्ला मत ।

  

– हरिहर झा

 *(एक संस्कृत श्लोक की छाया मे) 

घटिके!  = hand-driven Flour Mill 

Advertisements

5 टिप्पणियाँ »

  1. अरे बन्धु, घर के जांत या चकरी पर इतना बढ़िया हास्य!
    हम लोग पहले क्यों न मिले. कविता मुझे ज्यादा समझ नहीं आती पर हम मिल करेंगे!

    टिप्पणी द्वारा ज्ञानदत पाण्डेय — जुलाई 12, 2007 @ 5:22 पूर्वाह्न |प्रतिक्रिया

  2. एक बढिया कविता बढिया शब्दों से संजो कर लिखी है। अच्छी रचना है।बधाई।

    फिर तुझे नचाने मे तो
    उसकी पतली कमरियां
    लचक जाती है।
    कोमल कलाईयां
    मचक जाती हैं
    इसका तू गर्व कर!

    टिप्पणी द्वारा paramjitbali — जुलाई 12, 2007 @ 5:31 पूर्वाह्न |प्रतिक्रिया

  3. Gyandatt Ji va Parmjit Ji

    Aapko kavita pasand aai yah jaan kar achchha lagaa.

    Kavita ki achchhaai Praachin-Sanskrit Saahitya ke
    madhur haasya ki hei. Koi bhi kamjori ho to
    vah meri apni hei.

    Punahshcha, Dhanyavaad.

    टिप्पणी द्वारा Harihar Jha हरिहर झा — जुलाई 12, 2007 @ 6:48 पूर्वाह्न |प्रतिक्रिया

  4. प्रिय हरिहर जी..जहाँ तक पंक्तियों का सवाल है… अच्छी हैं किंतु मेरी भावनाएं इससे बिलकुल अलग हैं..क्या इंसान की मति इतनी भ्रष्ट हो जाती है कि सारी कुमति का दोष नारी को मढ़ दिया जाए? भगवान ने सबको मस्तिष्क दिया है.. तो क्या नारी इसका बेहतर उपयोग जानती है?..
    कवि कुलवंत

    टिप्पणी द्वारा Kavi Kulwant — जुलाई 13, 2007 @ 5:59 पूर्वाह्न |प्रतिक्रिया

  5. Kulwant Sing Ji

    Mei aapse poori tarah sahmat huN.
    Vidyaarthi-Jeevan mei yah kavitaa vinod mei aakar
    likhi thi. Ise shuddha vinod ke roop me hi lene
    yogya hei.

    Mere apne vichaar in paNktiyoN me :

    जंजीरों मे घिरी नारियां हुई स्वतन्त्रता बेमानी थी
    देवी कह कर फुसलाया शोषण की नीति ठानी थी
    सूत्रपात हो क्रान्ति का ‘आधीदुनियां’ को होश हुआ
    प्रगति पथ पर अधिकारों की समता का उद्घोष हुआ

    भोग्या नहीं, नहीं अबला है स्त्रीशक्ति को पहचानो
    प्रेमस्रोत के फूल महकते खिलने दो खुशबू पहचानो

    http://www.anubhuti-hindi.org/smasyapurti/samasyapurti_03/03_04pravishtiyan3.htm#hj

    टिप्पणी द्वारा Harihar Jha — जुलाई 16, 2007 @ 2:08 पूर्वाह्न |प्रतिक्रिया


RSS feed for comments on this post. TrackBack URI

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: