हरिहर झा

अप्रैल 6, 2007

भरम भारी पिटारा खाली

Filed under: मंच,व्यंग्य,हास्य — by Harihar Jha हरिहर झा @ 12:11 अपराह्न

राजनीति के दावपेंच मे चला अगर ना सिक्का  जाली
लोग हमीं को देंगे गाली भरम भारी पिटारा खाली

जम कर जेब भरो आखिर कुर्सी के लिये बहाया धन
लाइसेंस हो नोनसेंस  गर  खाया  नहीं  कमीशन
इन्कमटेक्स की रेड गिरा कर करवा दो बस चर्चा
बिटिया की शादी मे कर दो कईं करोड़ का खर्चा

कमी रह गई शादी मे कुछ काला धन जो किया न खाली
लोग हमीं को देंगे गाली भरम भारी पिटारा खाली

टिकिट खरीदा रोकड़ा देकर खड़ा हुआ इलेक्शन में
कहां की जनसेवा? वसुल दुगुना करने के टेन्शन में
विरोधियों की नाक काट दो फांस लो किसी फन्दे में
झुठमुठ इल्जाम लगा दो गड़बड़ कर दी चन्दे मे

टृक मे भर भर लोग मंगाओ भाषण मे जो बजे न ताली
लोग हमीं को देंगे गाली भरम भारी पिटारा खाली

विधायकों को पेटी दे कर बैठूं मन्त्री के पद पर
नई योजनायें बन कर क्रान्ति हो कोरे कागद पर
सब के सब दलबदलु खरीद लिये हैं अच्छे दामो में
खाक बना नेता जो धन लुटे ना उलटे कामो में

नक्शे में तुम नहर दिखादो दिखी वहां जो गन्दी नाली
लोग हमीं को देंगे गाली भरम भारी पिटारा खाली

झूठे  वादे  रोजी रोटी  बेघर  को  छत  देने
निजी स्वार्थ को पूरा करने हाथ उठे मत देने
बला कौनसी वैश्वीकरण समझ नहीं कुछ आता
सेवक हूं मै जनता का भारत का भाग्यविधाता

हर शाख पे उल्लु बैठा हो उस बाग की कौन करे रखवाली
लोग हमीं को देंगे गाली भरम भारी पिटारा खाली।
 

                                            -हरिहर झा    

Advertisements

5 टिप्पणियाँ »

  1. सही में आपका दर्द गहरा है! अच्छा लिखा!

    टिप्पणी द्वारा अनूप शुक्ला — अप्रैल 6, 2007 @ 1:18 अपराह्न |प्रतिक्रिया

  2. बहुत गहरी बातें लिखा है आपने

    टिप्पणी द्वारा SHUAIB — अप्रैल 7, 2007 @ 5:56 पूर्वाह्न |प्रतिक्रिया

  3. A wonderful and impressive blog. We obeserved that you have published the feed in this blog. But there is no indication of the terms of use.

    Actually we want to put the feed in aggregated form in our network of websites, “www.chhattisgarhnews.info” is one of them. If interested, please guide us about the terms related to the feed published by you

    टिप्पणी द्वारा Vijay — अप्रैल 7, 2007 @ 9:30 पूर्वाह्न |प्रतिक्रिया

  4. Dhanyavaad Anup Ji evam Shuaib Ji.

    Jaan kar achchha lagaa ki aapko kavitaa pasand aai.

    -Harihar

    टिप्पणी द्वारा Harihar Jha हरिहर झा — अप्रैल 10, 2007 @ 12:08 पूर्वाह्न |प्रतिक्रिया

  5. Subject : Term of Use

    Vijay ji

    I visited your site to find that :

    1. The site contains too much of links taken from various feeds that too in the sidebars.

    2. The browser gets the text for the sidebar first, and then the actual content, thus, even in broadband connections the main content takes more than few seconds for the main content to be visible.

    3. The site doesnot acknowledge or give link for the original publisher which is not expected from a site reproducing feeds. The title of feed should link to the original source.

    4. The site title “chhatisgarh news” doesnot relate to me anyhow.

    In view of the above, I insist that my site content must not be reproduced on your site.

    -Harihar

    टिप्पणी द्वारा Harihar Jha हरिहर झा — अप्रैल 10, 2007 @ 12:11 पूर्वाह्न |प्रतिक्रिया


RSS feed for comments on this post. TrackBack URI

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: