हरिहर झा

जनवरी 31, 2007

सूचि या इन्डेक्स

Filed under: हिन्दी — by Harihar Jha हरिहर झा @ 12:32 अपराह्न

 This Page:

https://hariharjhahindi.wordpress.com/2007/01/31/सूचि या इन्डेक्स/   

एक निर्धारित कविता खोजने के लिये

Page 1  
https://hariharjhahindi.wordpress.com/2007/02/18/मांकीयाद/    Prit Ke Geet

  https://hariharjhahindi.wordpress.com/2007/02/16/खिलनेदोखुशबूपहचानो/https://hariharjhahindi.wordpress.com/2007/02/16/प्रीतकेगीत/https://hariharjhahindi.wordpress.com/2007/02/16/गुनगुनीधूपहै/https://hariharjhahindi.wordpress.com/2007/02/16/रावणऔरराम/https://hariharjhahindi.wordpress.com/2007/02/16/ न जाने क्यों/https://hariharjhahindi.wordpress.com/2007/02/16/ ऐसा बोर सैयां/

https://hariharjhahindi.wordpress.com/2007/02/16/ मौसम/

https://hariharjhahindi.wordpress.com/2007/02/16/ शरद/  ????

https://hariharjhahindi.wordpress.com/2007/02/16/ मित्र !/

Page 2

https://hariharjhahindi.wordpress.com/2007/02/16/ निकल कन्दराओं से/

https://hariharjhahindi.wordpress.com/2007/02/16/ मदिरा ढलने पर/

https://hariharjhahindi.wordpress.com/2007/02/16/ बन कविता मुस्कुराती/

https://hariharjhahindi.wordpress.com/2007/02/15/ मौन मुखर!/

https://hariharjhahindi.wordpress.com/2007/02/15/ कीचड़ मे कमल/

https://hariharjhahindi.wordpress.com/2007/02/15/ दिल का दर्द/

https://hariharjhahindi.wordpress.com/2007/02/14/ अंधेरा/

https://hariharjhahindi.wordpress.com/2007/02/14/ मित्रों से झगड़ता चल/

https://hariharjhahindi.wordpress.com/2007/02/14/ मित्रों से झगड़ता चल/

https://hariharjhahindi.wordpress.com/2007/02/14/ लम्हा/

https://hariharjhahindi.wordpress.com/2007/02/14/ फ्रायड ने देखा एक ख्वाब/

Page 3

https://hariharjhahindi.wordpress.com/2007/02/13/ घोड़े /

https://hariharjhahindi.wordpress.com/2007/02/13/ दर्द का दर्द/

https://hariharjhahindi.wordpress.com/2007/02/13/ चलो फिर/

??? https://hariharjhahindi.wordpress.com/2007/02/01/ आस्टृेलिया की आवाज/

https://hariharjhahindi.wordpress.com/2007/02/01/ साहित्यसंध्या/

https://hariharjhahindi.wordpress.com/2007/02/01/ न इतना शरमाओ/

https://hariharjhahindi.wordpress.com/2007/02/01/ प्रिये तुम्हारी याद/

https://hariharjhahindi.wordpress.com/2007/02/01/ अंर्तज्योति /

https://hariharjhahindi.wordpress.com/2007/02/01/ साल मुबारक/

https://hariharjhahindi.wordpress.com/2007/01/31/ प्यार गंगा की धार/

Page 4

https://hariharjhahindi.wordpress.com/2007/01/31/ अर्थहीन कविता/

https://hariharjhahindi.wordpress.com/2007/01/31/ अर्थहीन कविता/

अर्थहीन कविता

Filed under: अतुकांत,रचनाकार,हिन्दी — by Harihar Jha हरिहर झा @ 12:27 अपराह्न

सार्थक है वह कविता –
जो मंत्रियों की चाटुकारिता से
परहेज न करे
जो राजों रजवाड़ों के भाट चारण का
वारिस हो सके
करोड़ीमल के संस्मरण में
कुछ प्रशस्तियाँ गा सके –

पर इस अर्थ प्रधान
स्वार्थ प्रधान युग में
पुरस्कार की क्या बात
जो चार पैसे न कमा कर ला सके
अर्थहीन है वह कविता….

अर्थहीन है वह कविता …
बिखरे विचारों की सजावट करती हुई
भ्रष्टाचार से बगावत करती हुई
विवश विद्रोह को मायने देती हुई
मियां मिठ्ठुओं को आइना दिखाती हुई
या फिर प्रेम की रंगीनियों में सोई हुई
प्रकृति के आगोश में खोई हुई
अर्थहीन है वह कविता….

पर ऐसी कविता
जो किसी ख़ेमे में छीना झपटी कर
झंडा उठा ले
राजनीतिक वादों इरादों पर
अपनी तुकबन्दी की छाप छोड़े
और मोदक की थाली की तरह सजाए –
खयाली पुलावों की चाशनी से बने
चुनावी घोषणा पत्र पर कसीदे करे
सफल है वह कविता…

जो जोखिम उठाए
रद्दी की टोकरी में गिर जाने का
पाखंडी शिखंडियों का मखौल सहने का
नेता भए विधाता के तीसरे नेत्र खुलने का
और सच का साथ दे
मोटी खाल में छिपे काइयाँपन को
व्यंग बाणों से भेद कर
लहूलुहान करे
तू-तू मैं-मैं की चीख पुकार के बीच
किसी अनहत नाद की सी प्रतीक्षा में
शांत सौम्य आनंदित भाव से
विवेक विचार का सृजन करे
अर्थहीन है वह कविता …

http://rachanakar.blogspot.com/2005/10/blog-post_18.html