हरिहर झा

मत आपका

The AWARD :

Book Launch of  “Bhig Gaya Mann” in Melbourne:

http://www.sahityasangam.org/30-may-2015.html

Review of the Book in Sahitya-Kunj :

http://www.sahityakunj.net/LEKHAK/P/PradeepSrivastava/apne_samya_ko_ukertee_kavitayen_PustakSameeksha.htm

http://www.rachanakar.org/2015/08/blog-post_1.html

http://www.rachanakar.org/2015/05/bheeg-gayaa-man-sameekshaa.html

Thank you Delhi International Film Festival

Award 0

धन्यवाद:

सेतु

 

1.

World Hindi Database  :

http://vishwahindidb.com/show_scholar.aspx?id=275

http://www.parikalpnaa.com/2013/08/blog-post_8.html

— http://www.parikalpnaa.com/2012/07/2012.html

—   काठमाण्डू-सम्मेलन-२०१३ 

http://www.poorvabhas.in/2015/02/blog-post.html

“…शशि पाधा- यू. एस. ए., शारदा मोंगा- न्यूजीलैंड, हरिहर झा- आस्ट्रेलिया आदि का भी योगदान कम उल्लेखनीय नहीं है। इन्हें खोने के लिए कुछ भी नहीं है और पाने के लिए पूरा संसार है।…”   नचिकेता

http://www.poorvabhas.in/2010/12/blog-post.html    (खबर इंडिया)

 

 

 

http://www.blogger.com/profile/07513974099414476605

http://chitthacharcha.blogspot.com/2008/07/blog-post_04.html

विश्व-हिन्दीजन

अब चंद एक लाइना

3. कम्प्यूटर कविता लिखेंगेलैपटाप तालियां बजायेंगे।

http://hgdp.blogspot.com/2007/09/blog-post_10.html

…..कई बार यह सोचना इतना ज्यादा हो जाता है कि कमेण्टियाने के धर्म का पालन नहीं होता. हरिहर झा जी को भी मैं सीरियसली लेता हूं. बसंत आर्य यदा-कदा ठहाका लगा लेते हैं….

http://chitthacharcha.blogspot.com/2007/04/blog-post_15.html

“हरिहर ने टीसती रचना मेरी मर्जी शीर्षक से लिखी है।”

http://hindi-blog-podcast.blogspot.com/2007/03/new-posts-for-february-3-2007-and.html

हिंदी कविता में नया साल
समकालीनता के परिप्रेक्ष्य में
—डा जगदीश व्योम 

ऐसे माहौल में भविष्य का क्या पता, इसलिए क्यों न आज थोड़ी ख़ुशियों के साथ कुछ पल गुज़ार लिए जाएँ-
तुम सच कहते हो-
कल किसी आतंकवादी बम से
आसमान फट पड़ेगा
तो मेरी फटी कमीज़ के तार-तार से
आसमाँ को भी सी दूँगा
पर आज मेरे दिल की नसें मत चिरने दो
यारों मुझे साल मुबारक कर लेने दो
-हरिहर झा

पतझड़

Harihar Jha हरिहर झा Mon Feb 26 14:45:09 IST 2007 (हरिहर झा)प्यार गंगा की धार

Harihar Jha हरिहर झा Tue Feb 20 14:06:51 IST 2007 (हरिहर झा)मां की याद

Harihar Jha हरिहर झा Sun Feb 18 13:26:40 IST 2007 (हरिहर झा)खिलने दो खुशबू पहचानो

Harihar Jha हरिहर झा Sat Feb 17 00:52:53 IST 2007 (हरिहर झा)चुप हूं

Harihar Jha हरिहर झा Sat Feb 17 00:36:11 IST 2007 (हरिहर झा)प्रीत के गीत

Harihar Jha हरिहर झा Sat Feb 17 00:27:00 IST 2007 (हरिहर झा)गुनगुनी धूप है

Harihar Jha हरिहर झा Sat Feb 17 00:21:29 IST 2007 (हरिहर झा)रावण और राम

Harihar Jha हरिहर झा Sat Feb 17 00:10:30 IST 2007 (हरिहर झा)न जाने क्यों

Harihar Jha हरिहर झा Sat Feb 17 00:00:31 IST 2007 (हरिहर झा)ऐसा बोर सैयां

Harihar Jha हरिहर झा Fri Feb 16 16:21:46 IST 2007 (हरिहर झा)

आज, विक्रांत यथार्थ की सशक्त प्रतीकात्मक अभिव्यक्ति से सराबोर कविता – हरिहर झा:
http://www.anhadkriti.com/kriti.php?type=poem&issnm=201406&cnum=502

Advertisements

टिप्पणी करे »

अभी तक कोई टिप्पणी नहीं ।

RSS feed for comments on this post. TrackBack URI

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: